Nafrat shayari, Nafrat Status in Hindi – नफरत की शायरी

Nafrat Ki Shayari in Hindi

हेल्लो दोस्तों सोवागत हे हमारे एक और नया शायरी वाली ब्लॉग पोस्ट में। आज की पोस्ट में हम आपके लिए लेकर आया हु नफरत की शायरी। में उम्मीद करता हु आपको ये नफरतो की शायरी बहुत ही पसंद आएगा। तो चलिए अब Nafrat Ki Shayari पड़ते हे।

nafrat ki shayari

“मोहब्बत हो या नफरत हो, दिल की बात
कहीं ना कहीं साफ झलक हीं जाती है.”

“Mohabbat Ho Ya Napharat Ho,
Dil Kee Baat Kaheen Na Kaheen Saaph Jhalak Heen Jaatee Hai.”

“तुम्हारी नफरतों में, प्यार की खुशबू बसा देंगे,
हमारी बज्म में आ जाओ, तुम्हें मुस्कुराना सिखा देंगे”

“Tumhaaree Napharaton Mein, Pyaar Kee Khushaboo Basa Denge,
Hamaaree Bajm Mein Aa Jao, Tumhen Muskuraana Sikha Denge”

“हमें बरबाद करना है तो हमसे प्यार करो,
नफरत करोगे तो खुद बरबाद हो जाओगे”

Hamein Barbaad Karna Hai Toh Hamse Pyaar Karo,
Nafrat Karoge Toh Khud Barbaad Ho Jaaoge”

“Ishq Kare Ya Nafarat Ijazat Hai Unhen,
Hume Ishq Se Apne Koi Shikayat Nah”

“Jinaka Kaam Hai Napharat Karana,
Vo Napharat Heen Karenge Ham To Yoon Heen Hamesha Bephikr Aur Madamast Rahenge.”

“Lekar Ke Mera Naam Woh Mujhe Kosta Hai,
Nafrat Hi Sahi Par Woh Mujhe Sochta Toh Hain.”

Nafrat Shayari in Hindi
“थी नफरत अक्स से वो आईना तोड़ना सिख गया,
वो अपनी गलती पर भी मुँह मोड़ना सिख गया,”

“Thi Nafrat Aksa Se Wo Aaeina Torna Sikh Gya,
Wo Apni Galti Par Bhi Muh Morna Sikh Gya,”

Nafrat Bhari Shayari

“तेरी नफरत ने ये क्या सिला दिया मुझे,
ज़हर गम-ए-जुदाई का पीला दिया मुझे।”

“Teree Napharat Ne Ye Kya Sila Diya Mujhe,
Zahar Gam-E-Judaee Ka Peela Diya Mujhe.”

“नफरत के शहर में मुझे प्यार की बस्ति बसानी है,
दूर रहना कोई बात नहीं,पास आओ तो बात बने।”

“Nafrat K Sheher Me Mujhe Pyar Ki Basti Basani He,
Dur Rehna Koi Baat Nhin, Paas Aao To Baat Bane”

“नफरत हो तो यकीन नहीं दिलाना पड़ता हैं,
मोहब्बत में ही सबूत कि जरुरत पड़ती हैं,”

“Nafrat Ho To Yakin Nho Dilana Parta Hai,
Mohbbat Me Hi Sabuat Ki Jarurat Parti Hai,”

“तूने ज़िन्दगी को मेरी इस क़दर कुछ यूँ मोड़ा हैं।
कि अब मोहब्बत भी नफरत भी, दोनों थोड़ा थोड़ा हैं।”

“Toone Zindagee Ko Meree Is Qadar Kuchh Yoon Moda Hain.
Ki Ab Mohabbat Bhee Napharat Bhee, Donon Thoda Thoda Hain”

Nafrat Shayari For Boyfriend

“कोशिश बस इतनी है कि कोई रूठे ना हमसे,
बाकि नफरत करने वालों से नज़रें हम भी नहीं मिलाते”

“Koshish Bas Itni Hai Ki Koi Roothe Na Hamse,
Baki Nafrat Karne Walon Se Nazrein Ham Bhi Nahi Milaate”

“नफरत के बाजार में जीने का अलग ही मजा है,
लोग रूलाना नहीं छोड़ते और हम हँसना नहीं छोड़ते।”

“न प्यार संभाला गया न नफरत पाली गयी,
बहुत अफसोश हैं इस ज़िन्दगी का जो तेरे पीछे खाली गई”

“मेरे दिल ने उस पर यकीन किया था,
नफरत क्यों करूँ अगर उसे दिल तोड़ दिया।”

नफ़रत शायरी 2 लाइन

“देख कर आपको मेरा यूँ पलट जाना,
ये नफरत बता रही हैं मैंने इश्क़ बेमिशाल किया था”

“कुछ इस अदा से निभाना है किरदार मेरा मुझको,
जिन्हें मुहब्बत ना हो मुझसे वो नफरत भी ना कर सके।”

“एहसास बदल जाते हैं बस और कुछ नहीं,
वरना नफरत और मोहब्बत एक ही दिल में होती है।”

“Ehsaas Badal Jate Hain Bas Aur Kuchh Nahi,
Varna Nafrat Aur Mohabbat Ek Hi Dil Mein Hoti Hai.”

“तुझे प्यार भी तेरी औकात से ज्यादा किया था,
अब बात नफरत की है तो नफरत ही सही।”

“Tujhe Pyaar Bhee Teree Aukaat Se Jyaada Kiya Tha,
Ab Baat Napharat Kee Hai To Napharat Hee Sahee”

“मोहब्बत है की नफरत कोई तो मुझे समझाये,
कभी मैं दिल से लडता हूँ,  कभी दिल मुझसे लडता है!”

“Mohabbat Hai Kee Napharat Koee To Mujhe Samajhaaye,
Kabhee Main Dil Se Ladata Hoon, Kabhee Dil Mujhase Ladata Hai!”

“नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने ही किरदार से,
अगर मैं तेरे ही अंदाज में तुझसे बात करुं”

“Nafrat Ho Jayegi Tujhe Apni Hi Kirdaar Se,
Agar Mai Tere Hi Andaaz Me Tujhse Baat Karu”

Khud Se Nafrat Shayari

“पाले रहें वो नफरते हम इश्क़ निभाते रहे,
जिंदगी भी ये कट गई खली ही हाथ,”

“Paale Rahen Vo Napharate Ham Ishq Nibhaate Rahe,
Jindagee Bhee Ye Kat Gaee Khalee Hee Haath,”

“तेरी नफरतों को प्यार की खुशबु बना देता,
मेरे बस में अगर होता तुझे उर्दू सिखा देता।”

“Teree Napharaton Ko Pyaar Kee Khushabu Bana Deta,
Mere Bas Mein Agar Hota Tujhe Urdoo Sikha Deta”

“कुछ इस अदा से निभाना है किरदार मेरा मुझको,
जिन्हें मुहब्बत ना हो मुझसे वो नफरत भी ना कर सके।”

“Kuchh Is Ada Se Nibhaana Hai Kiradaar Mera Mujhako,
Jinhen Muhabbat Na Ho Mujhase Vo Napharat Bhee Na Kar Sake”

“तुम सिर्फ नफरत कर सकते हो मुझसे,
बर्बाद करने की औकात नहीं तुम्हारी”

“Tum Sirf Nafratein Kar Skte Ho Mujhse,
Barbaad Karne Ki Aukaat Nhi Tumhari”

“आये बहार तेरे गुलिस्ताँ में बार बार,
तुझ पर कभी निखार न आये खुदा करे,
नफ़रतें दिल को क़बूल”

“Aaye Bahar Tere Gulistaan Me Bar Bar,
Tujh Par Kabhi Nikhaar Na Aaye Khuda Kare,
Nafratein Dil Ko Qabool”

नफरतों पर शायरी
“लगता है आज फिर कोई आंधी आने वाली है,
दर्द को दर्द से नफरत होने वाली है,
शायद मोहबत्त दरवाजे पर दस्तक देने वाली है”

“Lagata  Hai Aaj Phir Koi Aandhi Aane Vaali Hai,
Dard Ko Dard Se Nafrat Hone Vaali Hai,
Shaayad Mohabatt Daravaaje Par Dastak Dene Vaali Hai”

“तुम्हारी नफरत पर भी लुटा दी ज़िन्दगी हमने,
सोचो अगर तुम मुहब्बत करते तो हम क्या करते।”

“Tumhari Nafrat Par Bhi Luta Di Zindgi Humne.
Socho Agar Tum Mohabbat Karte Toh Hum Kya Karte”

“सुना है आज उसे हमारे जिक्र से भी नफरत है,
जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था।”

“Suna Hai Aaj Use Hamaare Jikr Se Bhee Napharat Hai,
Jisane Kabhee Apane Dil Par Hamaara Naam Likha Tha.”

“लेकर के मेरा नाम वो मुझे कोसता है,
नफरत ही सही पर वो मुझे सोचता तो है।”

“Lekar Ke Mera Naam Woh Mujhe Kosta Hai,
Nafrat Hi Sahi Par Woh Mujhe Sochta Toh Hai.”

प्यार से नफरत शायरी

“तेरे नफरत को मैंने
प्यार समझकर अपनाया हैं,
प्यार से ही नफरत खत्म होता है,
तूने ही तो समझाया है.”

“Tere Napharat Ko Mainne ,
Pyaar Samajhakar Apanaaya Hain,
Pyaar Se Hee Napharat Khatm Hota Hai,
Toone Hee To Samajhaaya Hai.”

“गर प्यार में बेवफाई मिले,
तो अपनी आंखें नम न करना,
कोई लाख नफ़रत करे तुमसे,
तुम अपना प्यार कम न करना।”

“Gar Pyar Me Bewafai Mile,
To Apni Aankhain Nam Na Karna,
Koi Laakh Nafrat Kare Tumse,
Tum Apna Pyar Kam Na Karna”

“उसने नफ़रत से जो देखा है तो याद आया,
कितने रिश्ते उसकी ख़ातिर यूँ ही तोड़ आया,
कितने धुंधले हैं ये चेहरे जिन्हें  मैंने था अपनाया है,
कितनी उजली थी वो आँखें जिन्हें छोड़ आया”

“Usane Nafarat Se Jo Dekha Hai To Yaad Aaya,
Kitane Rishte Usakee Khaatir Yoon Hee Tod Aaya,
Kitane Dhundhale Hain Ye Chehare Jinhen Mainne Tha Apanaaya Hai,
Kitanee Ujalee Thee Vo Aankhen Jinhen Chhod Aaya”

ज़िन्दगी से नफरत शायरी

“नफरत तुम कभी न करना हमसे,
हम ये सह नहीं पाएंगे, एक बार कह देना हमसे,
जरुरत नहीं अब तुम्हरी,
आपकी दुनिया से हस्स कर चले जायेंगे.”

Nafrat Tum Kabhi Na Karna Humse,
Hum Ye Seh Nahi Payenge,
Ek Bar Keh Dena Humse, Jarurat Nahi Ab Tumhri,
Aapki Duniya Se Hass Kar Chale Jayenge.

“नफरतें लाख मिलीं पर मोहब्बत न मिली,
ज़िन्दगी बीत गयी मगर राहत न मिली,
तेरी महफ़िल में हर एक को हँसता देखा,
एक मैं था जिसे हँसने की इजाजत न मिली//”

“Nafarate Lakh Mili Par Mohabbat Na Mili,
Zindage Bit Gayi Magar Rahat Na Mili,
Teri Mahafil Mein Har Ek Ko Hansata Dekha,
Ek Main Tha Jise Hansne Ki Ijajat Na Mili”

“नफरतों का सिलसिला जारी है,
लगता है दूर जाने की तैयारी है,
दिल तो पहले दे चुके हैं हम लगता है,
अब जान देने की बारी है”

“Nafrato Ka Silasila Jaari  Hai,
Lagata Hai Dur Jaane Ki Tayaari Hai,
Dil To Pahale De Chuke Hain Ham,
Lagata Hai Ab Jaan Dene Ki Baari Hai”

“दिल पर न मेरे यूँ वार कीजिये,
छोहो ये नफरत थोड़ा प्यार कीजिये,
तड़पते हैं जिस कदर तेरे प्यार में हम,
कभी खुद को भी उस कदर बेकरार कीजिये।”

“Dil Par Na Mere Yun Waar Kijiye,
Chodo Yeh Nafrat Thoda Pyar Kijiye,
Tadapte Hain Jis Kadar Tere Pyar Mein Hum,
Kabhi Khud Ko Bhi Us Kadar Bekraar Kijiye.”

“हमसे नफरत करो या मोहब्बत,
दोनों हमारे हक में बेहतर हैं,
क्योंकि अगर तुम नफरत करोगे तो हम,
तुम्हारे दिमाग में बस जायेंगे,
अगर मोहब्बत करोगे तो दिल में.”

Humse Nafrat Karo Ya Mohabbat,
Dono Hamare Haq Me Behtar Hain,
Kyoki Agar Tum Nafrat Kroge To Hum,
Tumare Dimag Me Bas Jayenge,
Agar Mohabbat Kroge To Dil Me.